एक टुकड़ा धूप - Ek Tukda Dhoop – Thappad - 2020

Ek Tukda Dhoop Song Lyrics

Ek Tukda Dhoop Song Lyrics in Hindi – फिल्म "थप्पड़" का गाना "एक टुकड़ा", राघव चैतन्य द्वारा गाया गया। गाने के बोल हैं शकील आज़मी। संगीत अनुराग सैकिया ने दिया। मुख्य कलाकार हैं तासपे पन्नू और पावेल गुलाटी।


 Ek Tukda Dhoop Song Lyrics in Hindi

गानाएक टुकड़ा धूप
फ़िल्मथप्पड़
गायकराघव चैतन्य
गीतकारशकील आज़मी
संगीतकारअनुराग सैकिया
कलाकारतापसी पन्नू और पावेल गुलाटी
लेबलटी-सीरीज़

टूट के हम दोनो में
जो बचा वो कम सा है
एक टुकड़ा धूप का
अंदर अंदर नम सा है

एक धागे में है उलझे यूँ
के बुनते बुनते खुल गए
हम थे लिखे दीवार पे
बारिश हुई और धूल गए

टूट के हम दोनो में
जो बचा वो कम सा है
एक टुकड़ा धूप का
अंदर अंदर नम सा है

सोचों ज़रा क्या थे हम हाय
क्या से क्या हो गए
हिजर वाली रातों की हाय
कब्रो में सो गए

हो तुम हमारे जितने थे
सच कहो क्या उतने थे
जाने दो मत कहो कितने थे

टूट के हम दोनो में
जो बचा वो कम सा है
एक टुकड़ा धूप का
अंदर अंदर नम सा है


 Ek Tukda Dhoop Song Video